Saturday , December 3 2022

मिट्टी से ही बना हूँ ..

Published Date: October 24, 2022

मिट्टी से ही बना हूँ
मिट्टी में ही मिल जाऊँगा
एक दिन के लिए ही सही
तुम्हारे घर की रौशनी
और रौनक बन जाऊँगा

मुझे नज़रअंदाज़ ना करना
मुझे अपनाए रखना
इलेक्ट्रॉनिक दीये से
सस्ते में मिल जाऊँगा
एक दिन के लिए ही सही
जगमगाते पलों सा
एक खूबसूरत याद बन जाऊँगा

मुझे बनाने वाले के
घर भी खुशियाँ आये
और जलाने वाले के
घर भी खुशियाँ हो
एक दिन के लिए ही सही
दोनों जगह एक रूप सा मिलूँगा
भेद मिटाऊँगा

मिट्टी से ही बना हूँ
मिट्टी में ही मिल जाऊँगा
एक दिन के लिए ही आऊँगा
पर सब रौशन कर जाऊँगा