Saturday , December 3 2022

मेरी मोहब्बत ..

Published Date: October 23, 2022

श्रृंगार शब्दों से
कविता की भाषा में
पढूं तेरे लिए
ज़ुबाँ इसी आशा में

तारीफ़ जो तूने की
पढ़ना हुआ सफल
ज़िन्दगी मिल गयी
एक नई परिभाषा में

तुम हो तो इश्क़ है
बिन तेरे ही अश्क है
गीतों में जो तुम नहीं
लिखना ही खुश्क है

कुछ लिख मैं रहा
बैठो जिज्ञासा में
पढूं तेरे लिए
ज़ुबाँ इसी आशा में
ज़िन्दगी मिल गयी
एक नई परिभाषा में