Saturday , December 3 2022

Daily Archives: November 17, 2022

शिखर और घाटी

सुबह का समय था। वह पहाड़ के पैरों तले खड़ा होकर पर्वत के शिखर को अनिमेष नेत्रों से निहारे जा रहा था, बिलकुल गर्दन सीधी ऊपर किये हुए, ठीक वैसे ही जैसे घनघोर अकाल में कोई किसान आशाविहीन आँखों से आकाश की तरफ टकटकी लगाकर धधकते अम्बर से मेघ का …

Read More »